कृति और प्रियंका दोनों ही विक्रम की यादों में क्यों खो गईं ?

कारगिल युद्ध का समय था, जब वतन की रक्षा के लिए बहादुर सैनिक अपने जीवन की कुर्बानी देने के लिए तैयार थे। इस युद्ध में एक वीर सैनिक था, कैप्टन विक्रम सिंह राजपूत, जिन्होंने अपने परिश्रम, साहस और वतन प्रेम के साथ दुश्मन के सामने अपने शौर्य का परिचय दिलाया।

कैप्टन विक्रम सिंह का जन्म एक सैनिक परिवार में हुआ था। उनके पिता एक पूर्व सैनिक थे और वे स्वयं भी बचपन से ही देश के प्रति विशेष स्नेह रखते थे। उनके परिवार में बड़े भाई के साथ दो छोटे बहन भी थीं, जिनकी मदद से उनका बचपन खुशी खुशी बीतता गया। विक्रम सिंह के जीवन का सपना था कि वह एक दिन भारतीय सेना में शामिल होंगे और अपने देश की सेवा करेंगे।

विक्रम की मेधा और मेहनत के बाद, वह एक दिन नीमच में एक सशक्त लड़ाकू पराक्रमी बन गए, जिसका सपना उनके माता-पिता का भी था। उनके परिवार के सदस्य गर्व से लालकिले की ओर इशारा करते थे, क्योंकि विक्रम उनके लिए एक देशभक्ति का प्रतीक बन चुके थे।

यही समय था जब विक्रम ने स्वयं को कारगिल युद्ध की लड़ाई में शामिल करने का निर्णय लिया। उनकी प्रेमिका, प्रियंका, जिसे वह बचपन से जानते थे, थी एक संयोगवश उनकी दिल की चुपकी हुई ख्वाहिश। विक्रम ने प्रियंका को युद्ध की तय कदमों का सच सुनाया, लेकिन उन्होंने उन्हें उनके निर्णय का समर्थन किया।

युद्ध के मैदान में, विक्रम सिंह ने अपनी साहसी बहादुरी से दुश्मन के सामने अपने वीर योद्धाओं के साथ लड़ा। उनका मान-समर्पण देखकर उनके साथी सैनिक भी प्रेरित हो गए और उन्होंने विशेष समर्पण और बलिदान के साथ युद्ध किया।

एक दिन, विक्रम को घायल होते हुए युद्ध के मैदान से बाहर ले जाया गया। वहां उनका सखा, लियो नामक सैनिक, उनका सामर्थ्य और साहस प्रशंसा कर रहा था। लियो ने उन्हें बताया कि एक नई सैनिक आई है जिसका नाम कृति है, और वह भी विशेष रूप से विक्रम के बलिदान को सलामी देने

 आई है। विक्रम ने कृति को देखा और उनके दिल में कुछ अलग हो गया।

कृति एक सुंदर, साहसी और समर्पित सैनिक थी। विक्रम और कृति के बीच में दोस्ती तेजी से बढ़ी और उनके दिलों की बातें आपस में साझा करने लगी। उनकी दोस्ती बढ़ती गई और फिर प्यार में बदल गई।

विक्रम और कृति का प्यार उनके साथी सैनिकों और उनके अधिकारियों के सामर्थ्य और वीरता का प्रतीक बन गया। उनके प्यार में दिन-रात गुजरने लगे और वे एक-दूसरे के बिना जीने की सोचकर डरते थे।

लेकिन, जैसे-जैसे समय आगे बढ़ता गया, तो युद्ध की स्थिति भी गंभीर होती गई। विक्रम और कृति दोनों एक-दूसरे को समर्थन देते थे, लेकिन उनके दिल में एक डर सदा बना रहता था।

एक दिन, खबर आई कि विक्रम को एक गहरे सामर्थ्य युद्ध में शामिल होने के लिए तैयार होना होगा। यह समाचार कृति के दिल को चुभ गया, लेकिन उन्होंने विक्रम के सामर्थ्य और उनकी वीरता पर पूरा विश्वास रखा और उनके साथ होने का आश्वासन दिया।

विक्रम का अंतिम संघर्ष आया, और वह अपने जीवन की कड़ी मेहनत, साहस और समर्पण के साथ युद्ध कर रहे थे। लेकिन एक दिन की तरह, विक्रम का दिल भी गहरे दुख से बेहल गया, जब उन्हें एक घायल सैनिक ने बताया कि वह अपने परिवार को आखिरी बार देखने के लिए वापस लौट रहे हैं।

कृति की आँखों में आंसू थे, लेकिन उन्होंने विक्रम को मजबूती से समर्थन दिया और उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। विक्रम ने अपने परिवार को देखा, और उनके आँखों में गर्व और प्यार की झलक देखकर उनका ह्रदय जल गया।

अपने परिवार के साथ वक्त बिताने के बाद, विक्रम ने अपने साथी सैनिकों के साथ वापस युद्ध की ओर कदम बढ़ाया। वह जानते थे कि वे अब अपने प्रियंका और कृति को कभी नहीं देख सकेंगे, लेकिन उनका कर्तव्य और वतन प्रेम उन्हें आगे बढ़ने के लिए मजबूर कर रहे थे।

युद्ध की लड़ाई बढ़ती  गई, और विक्रम और उनके साथी सैनिक ने अपने जीवन की खतरनाक परिस्थितियों का सामना किया। विक्रम के शौर्य और निरंतर संघर्ष के बावजूद, उनके साथी सैनिकों को भी बड़ी मुश्किलें आ रही थीं।

एक दिन, विक्रम की बलिदानी परिस्थितियों ने एक बड़े संकट की दिशा में जाने का निर्णय किया। विक्रम ने अपने साथी सैनिकों को समर्थन दिया और उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। वे अपने परिवार को और अपनी प्रियंका को याद करते हुए आगे बढ़े।

युद्ध की बड़ी लड़ाई में, विक्रम और उनके साथी सैनिक ने दिखाया कि उनका वीरता और साहस कोई भी मुश्किल परिस्थिति का सामना कर सकता है। लेकिन खतरनाक मार्गों में आगे बढ़ते वक्त, विक्रम की यात्रा में एक बड़ी आपदा आ गई।

उनके दिल की धड़कन तेज हो गई, और वे जानते थे कि उनकी आखिरी घड़ी आ गई है। उन्होंने अपने साथी सैनिकों को विचार किया और अपने अंतिम पलों में अपने परिवार, प्रियंका और कृति को याद किया। विक्रम की आखिरी सांस लेते समय, उनके होंठों पर एक मुस्कान थी, क्योंकि वे जानते थे कि वे अपने वतन के लिए अपने पूरे बलिदान को समर्पित कर चुके हैं।

कृति और प्रियंका दोनों ही विक्रम की यादों में खो गईं और उनका प्यार अब भी उनके दिलों में बसा हुआ था। वे दोनों ने कभी नहीं सोचा था कि विक्रम का आखिरी संघर्ष इतनी बड़ी चुनौती लेगा, लेकिन उनके प्यार और समर्पण ने उन्हें मजबूत बना दिया।

इस कहानी में वतन प्रेम, साहस, प्यार और बलिदान की एक अद्भुत झलक है। विक्रम सिंह ने अपने जीवन की कड़ी मेहनत और समर्पण से देश की सेवा की, और उनका प्यार कृति और प्रियंका ने उनकी साहसी बलिदानी की उपमा देते हुए उनकी स्मृतियों में हमेशा के लिए बना दी। इस कहानी का संदेश है कि वतन प्रेम और सेवा के माध्यम से ही हम अपने जीवन को सार्थक और उद्देश्यपूर्ण बना सकते हैं।

Scroll to Top